Time is priceless and learn importance of Time

" समय के बोल  "


समय क्या हैं? (What is Time?)

हम सभी अपने जीवन के पलो को समय के साथ तुलना करके याद करते है। समय अपनी गति से निरंतर चलता रहता हैं। प्रत्येक व्यक्ति के लिए समय समान है। जैसे  1  दिन में 24  घंटे , 1 घंटे में 60 मिनट ,1 मिनट में 60 सेकेंड ये सभी निश्चित है। हमें समय के साथ चलते रहना है क्यों की समय किसी का इंतजार नहीं करता। 
          
       किसी ने सही कहा हैं :

"अगर किसी ने अपना समय बर्बाद किया है तो समय ने उसे बर्बाद कर दिया  है। "

समय हमें आईना दिखाता है ,हम जैसा समय के साथ करते है समय उसी का प्रत्युत्तर भी देता है। 


To read click below:

हमारे जीवन में समय क्यों महत्वपूर्ण हैं ? (Why Time is important in our life?)

समय को केवल हमारे जीवन के क्षणों में विभाजित करके याद किया जा सकता है। एक क्षण में कई भावनाएं हो सकती हैं। वह क्षण हमारे जीवन में फिर कभी नहीं आएगा यदि हम इसे बेकार जाने दें। अपने जीवन के एक पल में हमने जितनी भी भावनाएं महसूस कीं, हम फिर कभी महसूस नहीं कर सकते। समय को उन क्षणों के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिन्हें हम वर्तमान में जी रहे हैं।

हमारे जीवन में सब कुछ समय पर निर्भर करता है। समय एकमात्र कीमती चीज है क्योंकि यह प्रतिवर्ती नहीं है। हमारे जीवन में कोई भी भावना केवल दिए गए क्षण में अनमोल है, लेकिन समय नहीं है। हमें उस भावना को अमूल्य बनाने के लिए उस समय / क्षण को जब्त करने की आवश्यकता है।

समय  की यह कविता आपको अपने समय का बुद्धिमानी से उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करने के लिए है। समय तेजी से गुजरता है; जीवन में हम चारों ओर घूमते हैं और साल बीत जाते हैं। समय हम सभी के पास एक दिन में एक सा होता है, फिर भी हम में से कुछ के लिए पर्याप्त समय नहीं है।जो इसका सदुपयोग करता है ,आने वाला समय में हम कहा होंगे ये सुनिश्चित करता है। 


समय:क्या तुम मेरे साथ चलोगे ?
अतीत में दफ़न करके दुखों का पहाड़
असफलताओं से ले हौसला ,करे जीत की कर पुकार
है कठिन कर्तव्य पथ,क्या पग धरोगे ?
स्मृति की किरणे बताती,जो नया ये साल आया है
अभी ये कुछ क्षणों में बीत जाएगा अधूरा ही।
और फिर मिट जाएंगी लकीरें,कुछ पुरानी धुंधली सी तस्वीरें भी ।
पर कभी भी हार को स्वीकार तुम न करना।
हार तो है इक सबक,विजय निश्चय ही लिखा है।
तुम परिश्रम अथक करना,कर्म पथ पर अटल रहना।
क्या करोगे ,हो अगर  जो अश्रु से सामना   ?
सोच बचपन की हसीं , तुम खिलखिलाओगे ।
सुन चिड़ियों  की चहक तुम श्रव्य लेना ।
मैं समांतर, साथ चलता रहूंगा ।
ना मै कभी तब रुका ना अब रुकूंगा ।
समय हूं मै ,मेरी गाथा बहुत लम्बी ।
तमस  के आलस से निकाल खुद को ,अब झांक बाहर है सबेरा
उठ खड़ा हो दौड़ चल ,रफ्तार अब मेरी पकड़
कर परिश्रम तू निरंतर ,पाएगा तब साथ मेरा।
मै समय हूं ,मै कभी  रुका  नहीं ना अब रुकूंगा।

                                 ______रजनीश शाकुन्तलम ।


निष्कर्ष (Conclusion):

समय स्वतंत्र है, लेकिन यह अनमोल है। आप इसे नहीं रख सकते, लेकिन आप इसे उपयोगी बना सकते हैं। आप इसे अपने हाथ में नहीं रख सकते, लेकिन आप इसे खर्च कर सकते हैं। अगर आपने इसे खो दिया है तो आप इसे कभी वापस नहीं पा सकते। "


मै आशा करता हु की ये कविता जिसके माध्यम से समय हमें क्या सीख दे सकता हैं , आपको पसंद आएगी। 
आने वाले post आप तक जरूर पहुंचे इसके लिए subscribe करना न भूले। 

धन्यवाद 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां